Friday, 8 July 2016

जहाँ तन्हा मिलोगे तुम तुम्हे रातें रुलायेंगी|

मेरी यादें मेरा चेहरा मेरी बातें रुलायेंगी,
हिज़्र के दौर में गुज़री मुलाकातें रुलायेंगी,
दिनों को तो चलो तुम काट भी लोगे फसानों मे,
जहाँ तन्हा मिलोगे तुम तुम्हे रातें रुलायेंगी|

No comments:

EK AAKHROT ROJ KHAYE AUR GUTNE DARD SE RAHAT PAYE सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं

सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज की कमी से होता है दर्द। रोजमर्रा के कामों को भी आसानी से नह...