Tuesday, 5 July 2016

कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई|

रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के,
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई|

No comments:

EK AAKHROT ROJ KHAYE AUR GUTNE DARD SE RAHAT PAYE सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं

सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज की कमी से होता है दर्द। रोजमर्रा के कामों को भी आसानी से नह...