Thursday, 7 July 2016

ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ.

उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह,
तीर जब लग गई तो कोई भी मरहम न हुआ,
देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा,
ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ.

No comments:

Spinner

Sppinner