Google+ Followers

Tuesday, 5 July 2016

इस बदनसीब का कोई नहीँ..

क्यूँ करते हो मुझसे
इतनी ख़ामोश मुहब्बत..
लोग समझते है
इस बदनसीब का कोई नहीँ..
Post a Comment