Saturday, 9 July 2016

दरिया-ए-मुहब्बत मे सैलाब बहुत था….

ताबीर जो मिल जाती तो एक ख्वाब बहुत था
जो शख्स गँवा बैठे है नायाब बहुत था
मै कैसे बचा लेता भला कश्ती-ए-दिल को
दरिया-ए-मुहब्बत मे सैलाब बहुत था….

No comments:

EK AAKHROT ROJ KHAYE AUR GUTNE DARD SE RAHAT PAYE सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं

सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज की कमी से होता है दर्द। रोजमर्रा के कामों को भी आसानी से नह...