Wednesday, 13 July 2016

अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं…।

सो जा ऐ दिल कि अब धुन्ध बहुत है तेरे शहर में,
अपने दिखते नहीं और जो दिखते है वो अपने नहीं…।

No comments:

Spinner

Sppinner