Monday, 11 July 2016

मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है ।
तड़प उठता हूँ दर्द के मारे,
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है ।
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

No comments:

KELE KE CHILKE KE BENEFITS इन 5 तरीकों से केले के छिलके से पाएं निखरी त्‍वचा

इन 5 तरीकों से केले के छिलके से पाएं निखरी त्‍वचा छिलके के भीतरी हिस्से को चेहरे और गर्दन पर रगड़ें इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते...