Monday, 11 July 2016

मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है,
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है ।
तड़प उठता हूँ दर्द के मारे,
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है ।
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

No comments:

EK AAKHROT ROJ KHAYE AUR GUTNE DARD SE RAHAT PAYE सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं

सिर्फ 1 अखरोट खाएं, घुटने के दर्द को दूर भगाएं अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज की कमी से होता है दर्द। रोजमर्रा के कामों को भी आसानी से नह...