Monday, 4 July 2016

Chahat Ki Intah

काश के कभी तुम समझ जाओ मेरी चाहत की इन्तहा को,
हैरान रह जाओगे तुम अपनी खुश-नसबी पर..

No comments:

Spinner

Sppinner