Saturday, 2 July 2016

Ishq Na Jruri

तेरी चुप्पी ग़र... तेरी कोई मज़बूरी है,
तो रहने दे... इश्क़ कौन सा ज़रूरी है... 

No comments:

Spinner

Sppinner