Google+ Followers

Monday, 4 July 2016

Mera Panah Dekhta Hu

हजार सवालो कि कश्मकश मे,
मै तेरी राह देखता हुं,
मेरी बेपनाह मोहब्बत को मोहलत दे,
तेरी आँखों मे मेरा पनाह देखता हुं..
Post a Comment