Monday, 4 July 2016

Pathar Mat Samjo

पथ्थर समझ के हमें मत ठुकराओ ,
कल हम मंदिर में भी हो सकते हैं ।

No comments:

Spinner

Sppinner