Saturday, 2 July 2016

Shayari Ke Diwane

बढ रहे है शहर में दिवानें मेरी "शायरी" के,
अब तो लगता है की बात "उस" तक पहुँच जाएगी 😥😥😥

No comments:

Spinner

Sppinner