Monday, 4 July 2016

Teri Salakho Ne Kar Diya

जो कभी किया ना असर शराब ने,
वो तेरी आँखों वे कर दिया,
सजा़ देना तो मेरी मुठ्ठी मे थी,
मुझे हि कैद तेरी सलाखों ने कर दिया ..

No comments:

Spinner

Sppinner