Monday, 4 July 2016

Usi Ki Kami Hai

आंसुओं की बूँदें हैं या आँखों की नमी है,
न ऊपर आसमां है न नीचे ज़मी है,
यह कैसा मोड़ है ज़िन्दगी का,
उसी की ज़रूरत है और उसी की कमी है..

No comments:

Spinner

Sppinner